उज्जैन में विराजमान है वो जिससे होती है कालगणना, जानिए साढ़े तीन काल का महत्व

Homeधर्म

उज्जैन में विराजमान है वो जिससे होती है कालगणना, जानिए साढ़े तीन काल का महत्व

वराह पुराण में उज्जैन को नाभि देश और महाकालेश्वर को अधिष्ठाता कहा गया है। देशांतर रेखा और कर्क रेखा यहीं एक -दूसरे को काटती हैं। जहां यह काटती हैं संभवत: वहीं महाकालेश्वर मंदिर स्थित है।

क्या है शादी के सात अनमोल वचन और उनका अर्थ और महत्व
Latest: कोरोना महामारी से अमरनाथ यात्रा कैंसिल, ऑनलाइन दर्शन की होगी व्यवस्था
जानिए दक्षिण भारत के कन्याकुमारी मंदिर का रहस्यमयी इतिहास

दुनिया की एकमात्र उत्तर प्रवाह में बहने वाली क्षिप्रा नदी के पास बसी सप्तपुरियों में से एक भगवान श्रीकृष्‍ण की शिक्षास्थली अवं‍तिका अर्थात उज्जैन को राजा महाकाल और विक्रमादित्य की नगरी कहा जाता है। यहां तीन गणेशजी विराजमान हैं चिंतामन, मंछामन और इच्छामन। यहां पर ज्योतिर्लिंग के साथ दो शक्तिपीठ हरसिद्धि और गढ़कालिका है और 84 महादेव के साथ ही यहां पर देश का एक मात्र अष्ट चिरंजीवियों का मंदिर है। यह मंगलदेव की उत्पत्ति का स्थान भी है और यहां पर नौ नारायण और सात सागर है। यहां के शमशान को तीर्थ माना जाता है जिसे चक्र तीर्थ कहते हैं। यहां पर माता पार्वती द्वारा लगाया गया सिद्धवट है। श्रीराम और हनुमान ने उज्जैन की यात्रा की थी। यहां के कुंभ पर्व को सिंहस्थ कहते हैं। राजा विक्रमादित्य ने ही यहीं से विक्रमादित्य के कैलेंडर का प्रारंभ किया था और उन्होंने ही इस देश को सर्वप्रथम बार सोने की चिढ़िया कहकर यहां से सोने के सिक्के का प्रचलन किया था। महाभारत की एक कथानुसार उज्जैन स्वर्ग है।

यहां पर साढ़े तीन काल विराजमान है- महाकाल, कालभैरव, गढ़कालिका और अर्ध काल भैरव। इनकी पूजा का विशेष विधान है। यहीं से विश्‍व का काल निर्धारण होता है अर्थात मानक समय का केंद्र भी यही है। उज्जैन से ही ग्रह नक्षत्रों की गणना होती है और यहीं से कर्क रेखा गुजरती है। प्राचीनकाल में उज्जैन से ही संपूर्ण धरती का मानक समय नियुक्त होता था। यह सूर्य और कर्क रेखा के ठीक नीचे है। भारतीय भारतीय मान्यता के अनुसा जब उत्तर ध्रुव की स्थिति 21 मार्च से प्राय: 6 मास का दिन होने लगता है तब 6 मास के तीन माह व्यतीत होने पर सूर्य दक्षिण क्षितिज से बहुत दूर हो जाता है। उस दिन सूर्य ठीक उज्जैन के उपर होता है। उज्जैन का अक्षांश और सूर्य की परम कांति दोनों ही 240 अक्षांस पर मानी गई हैं। यह स्थिति पूरी धरती पर और कहीं निर्मित नहीं होती है।

उज्जैन 23.9 अंश उत्तर अक्षांश एवं 770 देशांतर पर समुद्र की सतरह से 1658 फुट की ऊंचाई पर बसी हुई है। वराह पुराण में उज्जैन को नाभि देश और महाकालेश्वर को अधिष्ठाता कहा गया है। देशांतर रेखा और कर्क रेखा यहीं एक -दूसरे को काटती हैं। जहां यह काटती हैं संभवत: वहीं महाकालेश्वर मंदिर स्थित है। यहां पर ऐतिहासिक नवग्रह मंदिर और वेधशाला की स्थापना से कालगणना का मध्य बिंदु होने के सबूत मिलते हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0