नारद जयंती 27 मई 2021: देवर्षि नारद का यह है वास्तविक स्वरूप

Homeत्यौहार

नारद जयंती 27 मई 2021: देवर्षि नारद का यह है वास्तविक स्वरूप

सभी युगों में, सभी लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारद जी का सदैव से एक महत्त्वपूर्ण स्थान रहा है। देवताओं के साथ साथ दानवों ने भी सदैव उनका आदर किया है।

ज्येष्ठ माह 2021: जानिए इस महीने पड़ने वाले व्रत त्यौहार के बारे में
Nirjala Ekadashi 21 June 2021: कब है निर्जला एकादशी का कठिन व्रत, जानें प्रमुख बातें
Gayatri Jayanti 21 June 2021: कब है गायत्री जयंती? जानें महत्व, मुहूर्त मंत्र एवं खास बातें

ज्येष्ठ माह की द्वितीया तिथि को ब्रह्मा जी के पुत्र एवं भगवान विष्णु के परम भक्त देवर्षि नारद जी की जयंती है। देव पुराणों के अनुसार देवर्षि नारद धर्म के प्रचार प्रसार एवं लोक कल्याण के लिए सदैव प्रयत्नशील रहते है, इसलिए पुराणों में देवर्षि नारद को भगवान का मन कहा जाता है।

सभी युगों में, सभी लोकों में, समस्त विद्याओं में, समाज के सभी वर्गो में नारद जी का सदैव से एक महत्त्वपूर्ण स्थान रहा है। देवताओं के साथ साथ दानवों ने भी सदैव उनका आदर किया है। समय-समय पर सभी ने उनसे परामर्श लिया है। श्रीमद्भगवद्गीता के दशम अध्याय के 26वें श्लोक में स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने नारद जी की महत्ता को स्वीकार करते हुए कहा है- देवर्षीणाम् च नारद:। देवर्षियों में मैं नारद हूं।

देवर्षि नारद दुनिया के प्रथम पत्रकार या पहले संवाददाता हैं, क्योंकि देवर्षि नारद ने इस लोक से उस लोक में परिक्रमा करते हुए संवादों के आदान-प्रदान द्वारा पत्रकारिता का प्रारंभ किया। इस प्रकार देवर्षि नारद पत्रकारिता के प्रथम पुरुष हैं। जो इधर से उधर घूमते हैं तो सूचनाओं का आदान प्रदान करते हैं। जब सेतु बनाया जाता है तो दो बिंदुओं या दो सिरों को मिलाने का कार्य किया जाता है। दरअसल देवर्षि नारद भी इधर और उधर के दो बिंदुओं के बीच संवाद का सेतु स्थापित करने के लिए संवाददाता का कार्य करते हैं।

नारद जी इधर से उधर चारों दिशाओं में घूमकर सीधे संवाद करते हैं और सीधे संवाद भेजते हैं, इसलिए नारद जी सतत सजग-सक्रिय रहते हुए ‘स्पॉट-रिपोर्टिंग’ करते हैं जिसमें जीवंतता है। देवर्षि नारद इधर-उधर घूमते हुए जहां भी पाखंड देखते हैं उसे खंड-खंड करने के लिए ही तो लोकमंगल की दृष्टि से संवाद करते हैं।

त्रेतायुग के रामावतार से लेकर द्वापर युग के कृष्णावतार तक नारद की पत्रकारिता लोकमंगल की ही पत्रकारिता और लोकहित का ही संवाद-संकलन है। उनके ‘इधर-उधर’ संवाद करने से जब राम का रावण से या कृष्ण का कंस से दंगल होता है तभी तो लोक का मंगल होता है। इसलिए तो देवर्षि नारद दिव्य पत्रकार के रूप में लोकमंडल के संवाददाता माने जाते हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 1